Hindi Shayari

Shayari part 42

मैं और मेरी तन्हाई
दोनों खुश है। 😊

*******

इजाज़त हो तो मांग लूँ तुम्हें
सुना हैं तक़दीर लिखी जा रही है। 

*******

समंदर को ढूँढती है ये नदी जाने क्यूँ,
पानी को पानी की ये अजीब प्यास है!!

*******

मुझे महँगे तोहफ़े बहुत पसंद है …
अगली बार यूं करना …
ज़रा सा वक़्त ले आना …

*******

मैं वो सवाल हूँ , जिसका कोई जवाब नहीं…

तू गर मुझमे हो ! जिंदगी का कोई ख्वाब नहीं…..

*******

खुद से भी रूबरू कभी करा दे मेरे
मालिक मुझको;

कब तक यूँ परायों में अपने होने के निशाँ ढूंढता फिरू…..!!!

*******

जायका अलग है, हमारे लफ़्जो का…

कोई समझ नहीं पाता… कोई भुला नहीं पाता…

*******

मैं वो सवाल हूँ , जिसका कोई जवाब नहीं…
हर कोई इस तरह से टालता है मुझे…

*******

दर्द बनकर ही रह जाओ हमारे साथ

सुना है दर्द बहुत वक़्त तक साथ रहता है …..

*******

माना की तेरे प्यार का मालिक नहीं हूँ मैं

पर किरायेदार का भी कुछ हक़ तो बनता….

*******

आहिस्ता से कीजिए क़त्ल मेरे अरमानों का

कहीं सपनों से लोगों का ऐतबार ना उठ जाए !!

*******

ज़िन्दगी जीनी हैं तो तकलीफें तो होंगी…
वरना मरने के बाद तो जलने का भी एहसास नहीं होता…!!

*******

मेहनत इतनी करो कि किस्मत भी बोल उठे,
ले ये तो तेरा हक़ है !!

*******

मुस्कुराहटे तो कई आयी थी..

मेरे चेहरे पर कोई जंची ही नही..

*******

नहीं कोई जानकारी मेरे पास मौसम की,
बस इतना जानता हुँ, तेरी यादें तूफ़ान लाती है।

*******

तरसेगा जब दिल तुम्हारा, मेरी मुलाकात को….
ख्वाबों मे होंगे तुम्हारे हम, उसी रात को…

*******

इंच भर भी….छोड़ने का मन नही करता,

झगडे़ कि जमीं सी लगती हो तुम।  

*******

कोई आदत कोई बात या फिर खामोशी मेरी…

कभी कुछ तो याद उसे भी आता होगा…

*******

ना तंग कर….. प्यार करने दे…..

ऐ जिन्दगी…..

तेरी कसम तुझसे…. भी हसींन है वो..

*******

जिनके पास अपने है वो अपनों से झगड़ते हैं,

नहीं जिनका कोई अपना वो अपनों को तरसते है..

*******

दिल सोचता है तो फिर सोचता ही रह जाता है,

कि ये जो अपने होते है..ये अपने क्यूँ नही होते। 

*******

कभी कभी हाथ छुड़ाने की ज़रूरत नहीं होती…

लोग साथ रह कर भी बिछड़ जाते है। 

*******

चुप चाप रहती है वो कुछ कहती भी नही,

जिसके लिए लिखता हूँ मैं, पता नही वो पढ़ती भी है या नही। 

*******

फिर उसने मुस्कुरा के देखा मेरी तरफ़,

फिर एक ज़रा सी बात पर जीना पड़ा मुझे !!

*******

मुझ में हिम्मत नही है कि अपनी दास्तान ए जिंदगी सुना सकूँ..

बस इतना जान लीजिये जिसने भी दिल तोडा जी भर के तोडा।

*******

न जाने क्यूँ बहुत उदास है दिल आज….

लगता है की किसीका पक्का इरादा है हमें भूल जाने का 

*******

मैं वो दिल कहाँ से लाऊँ…

जो तुम्हें प्यार न करे जो तुम्हें याद न करे…

*******

अकेले ही काटना है मुझे जिंदगी का सफर ..

तो दो पल साथ रहकर मेरी आदत ना खराब कर.!!

*******

तलब उठती है बार-बार तेरे दीदार की;

ना जाने देखते-देखते कब तुम आदत बन गये..!!

*******

तेरी मुहब्बत पर
मेरा हक तो नही

पर
दिल चाहता है
आखिरी सांस तक
तेरा इंतजार करू..!

*******

तुझमें छुपे हैं मेरी जिन्दगी के हजारों राज…

तुझे वास्ता है मेरे प्य़ार का, जरा खुद का ख्याल रखा कर। 

*******

अब नही लिखता हुँ “तुम” पर कोई शायरी..

जब जज़्बात ही नही समझे तो अल्फ़ाज क्या जानोगे..!!

*******

बस इतना ही कहा था, कि बरसो के प्यासे हैं हम;

उसने अपने होठों पे होंठ रख के, हमे खामोश कर दिया..!!

*******

सुना है तूम ले लेते हो हर बात का बदला,

आजमायेंगे कभी तूम्हारें होंठों को चूम कर..!!

*******

मुझे आदत नहीं यूँ हर किसी पे मर मिटने की…!

पर तुझे देख कर दिल ने सोचने तक की मोहलत ना दी..!!

*******

चलो अच्छा हुआ कि शाम तन्हा गुजरी,

अगर मिल के बिछड़ते तो बड़ी मुश्किल होती..!!

*******

शुक्रिया आपका जो ” दिल ” तोड़ कर छोड़ दिया…

तुम चाहते तो “जान” भी ले सकते थे..!

******

इस दुनिया मेँ अजनबी रहना ही ठीक है….
लोग बहुत तकलीफ देते है अक्सर अपना बना कर !!

*******

उड़ा देती है नींदे भी कुछ ज़िम्मेदारियां घर की

देर रात तक जागने वाला हर शख्स आशिक़ नही होता !

*******

ख्वाब मत बना मुझे.. सच नहीं होते,
साया बना लो मुझे.. साथ नहीं छोडेंगे..!!

*******

काश!
वो भी आकर हमसे कह दे…
मैं भी तनहा हूँ ….
तेरे बिन ….
तेरी तरह …
तेरी कसम….
तेरे लिए …

*******

सर्दी आई……अपने यादों का….
इक गर्म दुशाला दे दो ना…!
चुटकी भर इश्क़ मिला के………
इक गर्म चाय का प्याला दे दो ना..!!

*******

ज़िन्दगी में सारा झगड़ा ही ख़्वाहिशों का है..
ना तो किसी को गम चाहिए और,
ना ही किसी को कम चाहिए!

******

पूछा जो उसने,
करोगे प्यार कब तक?
रख के दिल पे हाथ कहा,
धड़केगा ये जब तक..!!

*******

किसी ने पूछ ही लिया की, इतनी खूबसूरत शायरी कहा से लाते हो,

मैंने मुस्कुरा के कहा डुबकी लगानी पड़ती है किसी के ख्यालो में। 

*******

कितने बेबस हैं तेरी चाहत में..!!
तुझे खो कर भी, अब तक तेरे हैं.!!

*******

कसम से बहुत , सताते हो तुम…
अक्सर बिना आवाज़,बिना दस्तक ….
दबे पावों..मेरे ख्यालों में चले आते हो,तुम…!!!

*******

कीमतें गिर जाती हैं खुद की अक्सर

किसी को कीमती बनाने में। 

*******

तुमको मिल ही गया
कोई बेहतर
मुझसे !
मुझको भी मिल गया
कोई बेहतर
तुमसे !

पर कभी कभी दिल को यूँ भी लगता है …
हम जो इक दूसरे को मिल जाते
तो यक़ीनन वो होता बेहतर
सबसे !

*******

झूठ बोले बग़ैर दिन निकला….

आज तो जम के नींद आएगी। 

*******

मुझे नहीं आती हैं,
उड़ती पतंगों सी चालाकियां,

गले मिलकर गला काटूं,
वो मांझा नहीं हूँ मै।

*******

अपना दर्द सबको न बताएं साहब,
मरहम एक आधे घर में होता है,

नमक घर घर में होता है। 

*******

सिर्फ पानी से नहाने वाला कभी सफल नहीं होता गालिब…

पसीने से नहाने वाले ही दुनिया बदलते है।

*******

सिर्फ स्वयं को ही खोजना है…

बाकी तो तकरीबन सभी कुछ Google पर मिल जाएगा

*******

तू आदत है तू आदत थी तू आदत रहेगी,

कितना भी बदले ज़माना तू ही मेरी ताकत रहेगी !!

*******

जीने की वजह तलाश करो…

मरने का ख़ौफ़ ख़त्म हो जाएगा…

*******

तड़पा कर तू मुझको दिल मेरा बेकरार न कर,

तीर पे तीर चला के तू दिल के मेरे आर पार न कर !!

*******

समझने वाले तो खामोशी को भी समझ लेते है,

और ना समझने वाले जज्बातों का भी मजाक उड़ा देते है !!

*******

अपनों पर भी उतना ही विश्वास रखो जितना दवाइयों पर रखते हो,

बेशक थोड़े कडवे होंगे पर आपके लिये फायदेमंद होंगे !!

*******

जिन्दगी में उस इन्सान को मत खोना,

जो गुस्सा करके फिर तुम्हारे पास आये !!

*******

एक डोर-सी है, उनके -मेरे दरमियां, बनती है,

उलझती है, सुलझती है,मगर टूटती नहीं…

*******

“सज़ा” बन जाती है गुज़रे हुए “वक़्त” की निशानियाँ,

ना जाने क्यूँ “मतलब” के लिए “मेहरबां” होते हैं लोग। 

*******

“लफ़्ज़ों” को यू “कम” ना “आकिए” साहब,

चंद जो “इक्कठे” हो जाए तो “शेर” हो जाते हैं..!

********

यूँ तो जाने कितनी बातें हुई थी हमारे उनके दरमियाँ,

पर सबसे ज्यादा याद वो है….. .जो अनकही रह गई।

*******

ख्यालों मे भटक जाना, उनकी यादों में खो जाना,

बहुत महंगा पड़ा है मुझको उनका हो जाना। 

*******

खुशमिजाजी मशहूर है हमारी, सादगी भी कमाल है,

हम शरारती भी बेइंतेहा हैं, तन्हा भी बेमिसाल हैं….!

*******

नसीब में कुछ रिश्ते अधूरे ही लिखे होते हैं … लेकिन…

ताज्जुब है उन रिश्तो की यादे इतनी खूबसूरत क्यों होती है…

*******

कीमतें गिर जाती है अक्सर खुद की…

किसी को कीमती बनाकर अपना बनाने में…

*******

सारी उमर अच्छा करके भी,

एक दिन की गलती बुरा बना देती है !!

*******

एक मास्क का क्या करोगे,

कुछ लोगो के तो कई चेहरे हैं…!!

*******

परछाई बनकर जिन्दगी भर तेरे साथ चलने का‌‌ इरादा है ..

तोड़कर दुनिया की सारी रस्में और कसमें तेरे‌ साथ जीने का वादा है।

*******

सिर्फ तेरा साथ जरूरी है,तेरा एहसास जरूरी है..!!

लाख दूरियां चाहे क्यों न हो,तेरा मुझ पर विश्वास जरूरी है….!!!!

*******

जिंदगी मैं भी मुसाफ़िर हूँ तेरी कश्ती का,

तू जहाँ मुझसे कहेगी मैं उतर जाऊँगा !

*******

हिलते लबो को तो दुनिया जान लेती है,

मुझे उसकी तलाश है जो मेरी ख़ामोशी पढ़ ले। 

*******

तेरी यादें… तेरी बातें… बस तेरे ही फसाने है….

हाँ कबूल करते है……. कि हम तेरे दीवाने है। 

*******

बड़ी मुद्दत से मिलता है,

शिद्दत से चाहने वाला। 

*******

जिंदगी समझ में नहीं आई तो मेले में अकेला,

और समझ आ गई तो अकेले में मेला !!

*******

तुम्हें हम दिल में रख लेते अगर बस में होता,

तुझे सब देखते है मुझसे ये देखा नहीं जाता !!

*******

हो सकता है की मैं तेरी खुशियाँ बाँटने ना आ सकू,

गम आये तो खबर कर देना वादा है की सारे ले जाऊँगा !!

*******

तुम मुझसे दोस्ती का मोल ना पूछना कभी,

तुम्हें किसने कहा की पेड़ छाँव बेचते है !!

*******

कहने को ही मैं अकेला हूं पर हम चार है, 

एक मैं.. मेरी परछाई.. मेरी तन्हाई.. और तेरा एहसास।

*******

सच्चा दोस्त वही है जो खुद तो पागल हो,

और तुम्हें भी पागल होने पर मजबूर करदे !!

*******

कुछ तो चाहत रही होगी इन बारिश की बूंदों की भी,

वरना कौन गिरता है इस ज़मीन पर आसमान तक पहुँचने के बाद !!

*******

रिश्ता रखो तो सच्चा,

नहीं तो अलविदा ही अच्छा !!

*******

मेरी तो खुद की किस्मत साथ नहीं देती,

तुम तो खैर तुम हो !!

*******

मेरे गुनाह मुझे मेरे सामने ही गिनवा दो दोस्तों,

ख़्वाहिश है की जब कफ़न में छुप जाऊँ तो बुरा न कहना !!

*******

कितना बेबस हो जाता है इंसान,

जब किसी को खो भी नहीं सकता…

और उसका हो भी नहीं सकता!!!

*******

बदलती चीजें हमेशा अच्छी लगती है,

बदलते हुये अपने कभी अच्छे नहीं लगते।

*******

उनके सपने जो मिले हमे… आँखे अमीर हो गई।

*******

झूठ लिखू तो उनको मेरा लिखू,

सच लिखू तो खुदको उनका लिखू!

*******

उनकी ज़िक्र उनकी फ़िक्र उनका एहसास उनका ख्याल,

वो खुदा तो नहीं फिर हर जगह क्यों है।

*******

यूँ ही नहीं हम उनकी चाहत का दम भरते हैं,

हमनें भी उनकी आंखों में ख़ामोश मोहब्बत देखी है ।

*******

 

Categories: Hindi Shayari

1 reply »

Leave a Reply