Asim Bakshi

रखा है

कहते है नाम में क्या रखा है
फिर भी दिलमे एक छुपाए रखा है

आ जाता है कभी लबो तलक
बरसो से जो दिलमे छुपाए रखा है

दुनिया अभी भी अनजान है
क्यों उसे दिलमे छुपाए रखा है

इश्क़ का यही हुन्नर है
अभी तक छुपाये रखा है

ग़ैरों से मिलते है खुले आम
अपनों को छुपाये रखा है

पढ़ लेगा जो मेरी निगाहें
समझेगा ,क्या छुपाये रखा है !!

-आसिम बक्षी 

Categories: Asim Bakshi

Leave a Reply