Dr. Akhtar Khatri

कैसे कह दुँ की भुला दो मुझे

तुम एक बार आज़मा लो मुझे,
हर एक दिक्कत सुना दो मुझे ।

शायद मरहम भी हो मेरे पास,
सारे ज़ख्म अब दिखा दो मुझे ।

महसूस किया है जिन ग़मों को,
अपनी ज़ुबाँ से समजा दो मुझे ।

अश्क़ भी मैं, अश्क़ की वजह भी,
आंखों से तुम छलका दो मुझे ।

‘अख़्तर’ बिना नहीं रह पाओगे,
कैसे कह दुँ की भुला दो मुझे ।

-Dr. Akhtar Khatri

Categories: Dr. Akhtar Khatri

Leave a Reply