Asim Bakshi

देख ली

बस यही घर पे बैठे बैठे
चिडियाए भी देख ली

बस युही घर पे बैठे बैठे
तितलियाँ भी देख ली

रोज़ शाम अकेला ढलता सूरज
उसकी सुनहरी धुप भी देख ली

कभी घर की सोची नहीं मशरूफियत में
चलो इसी बहाने घर की दुनिया भी देख ली

परिवार का प्यार पास मे ही था
सब की आंखोमे मोहब्बतें भी देख ली

कौन कहता है लोकडाउन पाबन्दी है
सही मायने में आज़ादी भी देख ली

कोई भी बातें urgent नहीं होती
21 दिन में यह बातें भी सिख ली !!!

-आसिम !!!

Categories: Asim Bakshi

Leave a Reply