Day: April 7, 2020

देख ली

बस यही घर पे बैठे बैठे चिडियाए भी देख ली बस युही घर पे बैठे बैठे तितलियाँ भी देख ली रोज़ शाम अकेला ढलता सूरज उसकी सुनहरी धुप भी देख ली कभी घर की सोची नहीं मशरूफियत में चलो इसी बहाने घर की दुनिया भी देख ली परिवार […]

लग रहा हैं

बसा बसाया शहर, अब बंजर लग रहा हैं, चारो ओर उदासीयों का मंज़र लग रहा हैं । जाने अनजाने से लोग क़ातिल हो जैसे, हर एक कि सांसों में खंजर लग रहा है । बड़ी मुश्किलों से बनाया था बरसों में, काटने को दौड़ता हुआ घर लग रहा […]

ભારત માતાના ચરણોમાં

ગઝલ… ભારત માતાના ચરણોમાં… રામનો આ દેશ છે; પ્રેમનો સંદેશ છે. મસ્તિષ્કે આશીર્વાદ છે ; હિમાલય દરવેશ છે . ચેતવાનો છે આ સમય ; ગદ્દાર કાળા મેશ છે . ખોફનાક આ ખોફ છે ; કૃષ્ણનો પ્હેરવેશ છે . રંગ લીલો ઝેરીલો ; કેસરી આ ખેસ છે . થાશે […]