Day: October 23, 2019

Brand New Version of मधुशाला

मैं औऱ मेरी तनहाई, अक्सर ये बाते करते है.. ज्यादा पीऊं या कम, व्हिस्की पीऊं या रम। मैं और मेरी तन्हाई, या फिर तोबा कर लूं.. कुछ तो अच्छा कर लूं। हर सुबह तोबा हो जाती है, शाम होते होते फिर याद आती है। क्या रखा है जीने […]