Day: April 28, 2014

Shayri part 15

Pahle “TOOT Ke CHAHNA” or Fir Khud “TOOT Jana…Baat To Choti Si hai Dosto…Magar “JAANLEWA” Hai. ********* Ek Mehboob Laaparwah Ek Mohabbat Bepanah.. !! Dono kafi Hain Sukoon Brbad Karne Ko… ********* Yeh maana k tumse na mil paayenge hum, Magar yaad rakhna ki yaad aayenge hum. ********* […]

Shayri part 16

कभी मंदिर पे बैठते हैं कभी मस्जिद पे …!! ये मुमकिन है इसलिए क्योंकि परिंदों में नेता नहीं होते ….!! ******** आज भी ये बात हम समझ ही नहीं पाते हैं !! मुट्ठी जितने दिल में कैसे ज़माने के गम समाते हैं ? ******** कीसी से भी अपनी […]