Day: March 25, 2014

Shayri part 9

सोचा था घर बना कर बैठुंगा सुकून से… पर घर की ज़रूरतों ने मुसाफ़िर बना डाला !! ******** भले जुबान अलग पर जज्बात तो एक है, उसे खुदा कहूँ या भगवान बात तो एक है… ********* एक घड़ी ख़रीदकर हाथ मे क्या बाँध ली,, वक़्त पीछे ही पड़ […]